Friday, June 23, 2017

मौसम


कुछ मौसम ने ली करवट
दिन सुहाना हो गया
रिमझिम बूंदें पड़ने लगी
आषाढ़ में सावन गया
गर्म पानी भाप बन कर उड़ गया
नल में ठंडा पानी गया
सड़कों पर जलभराव जो हुआ
कार का इंजन बंद हो गया
बिना छाते के घर से निकले
जिस्म गीला गीला हो गया
कुछ मौसम ने ली करवट

आषाढ़ में सावन गया
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...