Tuesday, June 06, 2017

नारी


तू कोमल भी है शक्ति भी है
तू नारी भी है अधीश्वर भी है
मांगती सहारा तू है
देती निर्मल छाया तू है
प्रेणना स्रोत्र तू है
नर का पूरक तू है
मीरा की भक्ति तू है
इंदिरा की शक्ति तू है
हक के लिए लड़ती लक्ष्मीबाई तू है
अशोक को संत बनाती तू है
कुटुंब बनाने वाली तू है
हृदयेश्वरी तू है तू है


Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...