Saturday, July 01, 2017

सावन

तपिश के बाद
कुछ बूंदे टपकी
आग बनी हुई
धरती देखे बादल
झुलझता मन तन
रखता शीतल चाह
अब सावन आया
टपका पानी रिमझिम
शीतलता देता सावन
तन में आग लगाता
यादें फिर उमड़ी

आया सावन आया
Post a Comment

मदर्स वैक्स म्यूजियम

दफ्तर के कार्य से अक्सर कोलकता जाता रहता हूं। दफ्तर के सहयोगी ने मदर्स वैक्स म्यूजियम की तारीफ करके थोड़ा समय न...