Saturday, August 05, 2017

औरों से

क्यूं करते हो गिला औरों से
क्यूं करते हो शिकवा औरों से
क्यूं करते हो तुलना औरों से
क्यूं रखते हो आस औरों से
क्यूं नही रखते खुद पर उम्मीद
क्यूं नही बढ़ते आगे हौसला करके
क्यूं नही बनते मिसाल औरों के लिए
क्यूं नही बदलते आस को आशा में
क्यूं मिलेगा तुम्हे औरो से
क्यूं नही देते स्वयं बन औरों  को


Post a Comment

षड़यंत्र

कुछ तनतनी सी लगती हो कुछ अनबनी सी लगती हो क्यों झगलाड़ू सी लगती हो क्यों चंडी सी लगती हो मुझे किसी षड्यंत्र ...